How to master English langauage (for Hindi speakers)?

हिंदी माध्यम से पढ़े बच्चों की समस्या ये होती है कि उन्हें जिंदगी में कभी न कभी अंग्रेजी से दो चार होना ही पड़ता है चाहे उच्च शिक्षा में हो या कार्यस्थल पर - ऐसे बहुत से लोग मुझे मेसेज भेजते हैं और पूछते हैं कि अंग्रेजी कैसे सीखे - अब क्योंकि मैंने खुद बीए तक हिंदी माध्यम से पढाई की थी, मुझे मालूम है कि हिंदी माध्यम वालों को उच्च शिक्षा में, खासतौर पर शोध छात्रों कोे, सिर्फ अंग्रेजी पर पकड़ न होने के कारण किन किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है - ऐसे लोगों को मैं अपने अनुभवों के आधार पर सलाह देता हूँ - कि भई, प्रतिदिन अंग्रेजी में पढो, लिखो, सुनो और बोलो - शुरुआत में भले ही पांच मिनट ही करो, लेकिन जो करो रोजाना करो - और साथ ही अपनी प्रगति को प्रतिदिन किसी डायरी, नोटबुक, विडियो इत्यादि के जरिये नोट करते रहो ताकि ये पता चलता रहे कि आप कहाँ से कहाँ पहुचे हैं - मेहनत का कुछ असर पड़ा है या नहीं - वो सब जो आपको एक भाषा सीखने के लिए चाहिए, आजकल तो आपके फ़ोन में ही मुफ्त में उपलब्ध है - रेडियो, गाने, मूवीज, उपन्यास, कहानियों की किताबें, अखबार, विडियो रिकॉर्डर, एमएस वर्ड, वाइस रिकॉर्डर, ब्रिटिश कौंसिल से लेकर बीबीसी तक के अंग्रेजी सिखाने वाले एप्प और वेबसाइट - कहीं लाइब्रेरी, कोचिंग, यूनिवर्सिटी जाने की जरुरत नहीं है - लेकिन अक्सर मैंने देखा है कि उन्हें ये सारी सलाहें पसंद नहीं आती हैं क्योंकि वे त्वरित समाधान की खोज में निकले हुए होते हैं - वो चाहते है कि मैं कोई ऐसा फार्मूला दूँ कि एक ही सप्ताह में अंग्रेजी भाषा पर उनकी पकड़ शशि थरूर जैसी हो जाए - अब ऐसा कोई फार्मूला तो है नहीं - भाषा पर पकड़ बनाने में समय और निरंतर प्रयास की जरुरत होती है - सीखना है, पकड़ बनानी है, तो आपको प्रयास हर दिन करना होगा, हर क्षण करना होगा और लम्बे समय तक करना होगा